Indian conscitution Important Question


 भारतीय  का संविधान 

Indian conscitution भारतीय  का संविधान 

  1.     1600 ईसवी में महारानी एलिजाबेथ से आज्ञा प्राप्त कर 31 दिसम्बर 1600 को लंदन में ईस्ट इंण्डिया कम्पनी की स्थापना की गई।
  2.     1613 में सूरत में अंग्रेजों द्वारा भारत में अपनी प्रथम व्यापारिक कोठी स्थापित की गई।
  3.     1615 में सर टाॅमस राॅ भारत आया तथा 10 जनवरी 1616 को अकबर का किला (अजमेर) में जहाँगीर से मिला व भारत में व्यापार करने की अनुमति प्राप्त की।
  4.     1700  ईसवी में अंग्रेजों द्वारा कोलकत्ता शहर (फोट विलियम कोलकाता) की स्थापना की गई। भारत में अंग्रेजों द्वारा प्लासी के युद्ध के बाद अपने साम्राज्य की नींव डाली गई। परन्तु अंग्रेजों के साम्राज्य की वास्तविक   स्थापना बक्सर  (पं.बंगाल 1764) के युद्ध से मानी जाती है।
  5. भारत में संवैधानिक विकास का प्रथम चरण अंग्रेजों द्वारा 21 जून 1773 को लाये गये रेग्युलेटिंग एक्ट को माना जाता है।   जिसमें वारेन हेस्टिंग्स को (प्रथम   वायसराय) बंगाल का पहला गवर्नर जनरल बनाया गया

 

1774  में अंग्रेजों द्वारा कलकत्ता में देश के प्रथम उच्च न्यायालय की स्थापना की गई।
1833  के चार्टर अधिनियम के द्वारा बंगाल के गवर्नर जनरल को भारत का गवर्नर जनरल बनाया गया।  विलियम बैंटिंग को भारत का प्रथम गवर्नर जनरल बनाया गया।

1909  में मार्ले-मिण्टो सुधार द्वारा मुस्लिमों के लिए पृथक निर्वाचन की व्यवस्था की गई व भारत को दो साम्प्रदायिक भागों हिन्दू व मुस्लिम में बांट दिया गया।

1919 भारत सरकार अधिनियम/मान्टेग्यू चेम्सफोर्ड अधिनियम :-

इस अधिनियम के द्वारा प्रान्तों में द्वैध शासन लागू कर दिया गया।     माण्टेग्यू- तत्कालीन भारतीय सचिव चेम्सफोर्ड – वायसराय
पूना समझौता-25 सित0 1932 (गांधी -अम्बेडकर जी के मध्य )

1935 का भारत सरकार अधिनियम – 1 अप्रैल 1935 को पारित हुआ। इसमें 321 अनुच्छेद व 10 अनुसूचियां हैं। इस अधिनियम के द्वारा केन्द्र में द्वैध शासन लागू कर दिया। इसे 1 अप्रैल 1937 से लागू किया गया।

संविधान निर्मात्री सभा का गठन

भारत में संविधान निर्माण की प्रक्रिया का श्रेय केबिनेट योजना (1946) को दिया जाता है। 24 मार्च 1946 को मिशन भारत आया।
इस योजना द्वारा संविधान निर्मात्री सभा का गठन किया गया जिसमें कुल 389 सदस्यों का चुनाव किया जाना था जिनमें
292     – प्रांतों से
93        – रियासतों से
4        – कमिश्नरी प्रांतों से

संविधान निर्मात्री सभा के चुनावों में कांग्रेस को 211 सीटों का स्पष्ट बहुमत प्राप्त हुआ व मुस्लिम लीग को 73 सीटें प्राप्त हुई जिसके बाद मुस्लिम लीग ने कांगे्रस का बहिष्कार कर दिया।

संविधान निर्मात्री सभा की प्रथम बैठक 9 दिसम्बर 1946 को अस्थाई अध्यक्ष सच्चिदानन्द सिन्हा की अध्यक्षता में दिल्ली में हुई।

11 दिसम्बर 1946 को संविधान सभा की द्वितीय बैठक में डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद को संविधान सभा का स्थायी अध्यक्ष बनाया गया तथा बी.एन. राव को संवैधानिक सलाहकार बनाया गया।

13 दिसम्बर 1946 को जवाहरलाल नेहरू द्वारा उद्देश्य प्रस्तावना प्रस्ताव प्रस्तुत किये गये जिनको भारतीय संविधान की प्रस्तावना बना दिया गया।

29 अगस्त 1947 में भारतीय संविधान की प्रारूप समिति का गठन किया गया। जिसका अध्यक्ष डाॅ. भीमराव अम्बेडकर को बनाया गया।
डाॅ. भीमराव अम्बेडकर को भारतीय संविधान का जनक व भारत का आधुनिक मनु कहा जाता है।

2 वर्ष 11 माह 18 दिन के बाद 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान बनकर तैयार हुआ तथा इसके कुछ अनु. भी लागू कर दिये गये। 26 जनवरी 1950 को पूर्ण रूप् से भारतीय संविधान लागू कर दिया।

संविधान निर्मात्री सभा की अंतिम बैठक 24 जनवरी 1950 को आयोजित हुई जिसमें डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद को देश का प्रथम राष्ट्रपति चुना गया।
मूल संविधान में 395 अनुच्छेद, 8 अनुसूचियां व 22 भाग थे जो वर्तमान में 395 (कुल 444) अनुच्छेद, 12 अनुसूचियां व 22 भाग (कुल 26 भाग) हैं।

भारतीय संविधान के स्त्रोत:-

संसदीय स्त्रोत                                    देश
संसदीय व्यवस्था, कानून निर्माण विधि व राष्ट्रपति पद        ब्रिटेन
    उपराष्ट्रपति पद व मौलिक अधिकार                        अमेरिका
    नीति निर्देशक तत्व/राष्ट्रपति निर्वाचन प्रणाली            आयरलैण्ड
    स्वतंत्र न्यायपालिका व न्यायिक पुनरावलोकन                अमेरिका
    मौलिक कत्र्तव्य व पंचवर्षीय योजना                        रूस
    गणतंत्रात्मक व्यवस्था                                    फ्रांस
    आपातकाल व्यवस्था                                        जर्मनी
    संविधान संशोधन प्रक्रिया                                दक्षिण अफ्रीका
    समवर्ती सूची व प्रस्तावना की भाषा                         आॅस्ट्रेलिया 
भारतीय संविधान का सबसे बड़ा स्त्रोत भारतीय सरकार अधिनियम 1935 को माना जाता है जिससे लगभग 75 प्रतिशत अनुच्छेद लिये गये हैं।

भारतीय संविधान के प्रमुख भाग  :-

प्रस्तावना:- प्रस्तावना के लिए मूल उद्देश्य प्रस्ताव जवाहरलाल नेहरू द्वारा 13 दिसम्बर 1946 को रखे गये थे तथा उन प्रस्तावों को 8 दिन के विचार विमर्श के पश्चात् संविधान की प्रस्तावना बनाया गया तथा प्रस्तावना में सर्वप्रथम बताया गया की संविधान सभा में 26 नवम्बर 1949 को (मिति मार्गशीर्ष शुक्ल सप्तमी 2006 विक्रमी) को संविधान का अंगीकृत व देश को समर्पित किया गया।

प्रस्तावना का मुख्य उद्देश्य संविधान निर्माताओं के विचारों को स्पष्ट करना व इनके विभिन्न भागों का संक्षिप्त वर्णन करना था।
42वाँ संविधान संशोधन 1976 के द्वारा संविधान की प्रस्तावना में तीन शब्द जोड़े गये – समाजवाद, अखण्डता, पंथनिरपेक्ष।

प्रस्तावना को भारतीय संविधान की आत्मा कहा गया है।

भारतीय संविधान के प्रमुख भाग:-
भाग 1    इस भाग में भारत के राज्यों व केन्द्रशासित प्रदेशों के बारे में बताया गया।    इस भाग में ही भारत को India तथा भारत दो नाम दिये गये।
भाग 2    नागरिकता (एकल नागरिकता)
भाग 3    मौलिक अधिकार
भाग 4    नीति निदेशक तत्व     (क) मौलिक कर्तव्य
भाग 9   पंचायतों का उल्लेख    (क)नगरपालिकाओं का उल्लेख
भाग 11    संघ व राज्यों के बीच संबंध
भाग 15    निर्वाचन आयोग का उल्लेख
भाग 17    राजभाषा का उल्लेख
भाग 18    आपातकाल का उल्लेख
भाग 20   संविधान संशोधन (368 में)

भारतीय सावधान में वर्णित प्रमुख अनुसूचियाँ 

:
अनु.-2    इसमें भारतीय राजव्यवस्था के विभिन्न पदाधिकारियों (राष्ट्रपति, राज्यपाल, लोकसभा अध्यक्ष सर्वोच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश) आदि के वेतन भत्तों का उल्लेख है।
अनु -3    विभिन्न पदाधिकारियों की शपथ का उल्लेख है।
अनु. -7    इसमें केन्द्र व राज्य संबंधों को स्थिरता प्रदान करने के लिए संघ सूची (99 विषय) राज्य सूची (61 विषय) समवर्ती सूची (52 विषय) का उल्लेख किया गया।
अनु. -8    इसमें भारत की संवैधानिक मान्यता प्राप्त 22 भाषाओं का उल्लेख है। (22वीं भाषा-डोगरी)
अनु.-9    इसमें राज्य द्वारा सम्पत्ति के अधिग्रहण का उल्लेख किया गया।
अनु.-11    इस सूची में पंचायती राज व्यवस्था को संवैधानिक दर्जा दिया गया।
अनु.-12    शहरी निकायों को संवैधानिक दर्जा दिया गया।

Indian conscitution Important Question

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *