संवेगात्मक बुद्धि (EQ) Emotional intelligence


संवेगात्मक बुद्धि (EQ) Emotional intelligence

 

hindi varn vichar हिंदी वर्ण विचार

राजस्थान का परिचय About Rajasthan

प्रिय पाठको अगर आपको हमरा प्रयास अच्छा लगा या आप कोई सुझाव देना चाहते है तो यहाँ क्लिक करके कमेंट अवस्य करे –  click Here

मनोविज्ञान के सभी टॉपिक हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करे – Click Here For Read psychology All Topic in Hindi

  • 1995 में प्रकाशित पुस्तक – संवेगात्मक बुद्धि , बुद्धि लब्धि से अधिक महत्वपूर्ण क्यों है |
  • संवेगात्मक बुद्धि के सिद्धांत का प्रतिपादन गोलमैन किया |
  • संवेगात्मक बुद्धि से तात्पर्य है व्यक्ति जिसके माध्यम से व्यक्ति अपने संवेगों को पहचानता है , उन्हें ठीक ढंग से प्रतिबंधित करता है तथा अपने आप को ठीक ढंग से अभी प्रेरित करता है | अपने आवेगों  पर नियंत्रण रखता है | दूसरे लोगों के संवेगों को ठीक से समझता है |
  • संवेगात्मक बुद्धि शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम डॉ. जॉन मेयर व डॉ. पीटर सैलोवी  द्वारा |
  • सांवेगिक बुद्धि पद का प्रतिपादन सैलोवी  तथा मेयर  द्वारा किया गया |

सांवेगिक बुद्धि के पांच मुख्य तत्व  —

  • अपने आपको अभीप्रेरित करना |
  • अपने आवेगों पर नियंत्रण |
  • दूसरों के संवेगों की पहचान करना |
  • अंतवैयक्तिक संबंधों को ठीक ढंग से संचालित करना |
  • हे के अनुसार सांवेगिक बुद्धि के चार तत्व  —

स्व जागरूकता ,   सामाजिक जागरुकता ,  स्व प्रबंध ,  संबंध प्रबंध |

  • वुड एवं वुड ने सैलोनी तथा मेयर द्वारा बताये गये तत्वों में एक तत्व और शामिल किया आशावादिता |
  • भारत में एन. के.चढ्ढा ने सांवेगिक बुद्धि को नापने के लिए सांवेगिक लब्धि परिक्षण विकसित किया है |
  • जिन पियाजे का का संज्ञानात्मक विकास का सिध्दांत – बुद्धि एक प्रकार की अनुकूलि प्रक्रिया है | जिसमे जैविक परपिक्वता तथा वतावरण के साथ होने वाली अंत:क्रिया समिलित होती है |
  • मानसिक सरंचना की व्यवहारगत समान्तर प्रक्रिया – स्कीमा कहलाती है |
  • स्टर्नबर्न का बुद्धि का त्रितंत्र सिध्दांत —

बुद्धि के तीन मुख्य प्रकार होते है –

संदर्भात्मक बुद्धि (व्यवहारिक )

अनुभव जनय बुद्धि (सृजनात्मक )

घटकीय बुद्धि (विश्लेष्णात्मक )

  • भारत में सर्वप्रथम डॉ. राईस ने 1922 में में `हिन्दुस्तानी बिने क्रिया स्केल ` प्रकाशित करवाया |
  • भारत में CIE सामूहिक भाषात्मक बुद्धि परिक्षण प्रो.उदयशंकर ने तैयार किया |
  • बिने साइमन स्केल के प्रश्नों का क्रम – सरल से कठिन की ओर |
  • बुद्धि परिक्षण का सर्वप्रथम परिक्षण वुंट ने किया
  • x=y तथा y = z तो x = z उपमान तर्क |
  • सफलता से ही सफलता मिलती है प्रभाव का नियम |
  • जानबूझ कर सीखे गये प्रयोजन आदत बन जाते हैं |
  • कक्षा – कक्ष में शिक्षक के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती  –  विसभागियता |
  • भावना व संवेग में अन्तर अंश का पाया जाता हैं |
  • विकास की दिशा – सर से पैर व समीप से दूर की ओर है |
  • विकास का ग्राफ सर्पिलाकार होता है |
  • शिक्षा भी मानकात्मक विज्ञान है |
  • साहचार्य वाद मनोविज्ञान का जनक जैन लॉक
  • स्पीयर मैन ने अपना द्विखंड सिध्दांत निर्माण 1904 में पूरा किया |
  • बुद्धि का विभाजन टरमन व मैरिल ने किया |

 

  • “अमूर्त वस्तुओ के विषय में सोचना ही बुद्धि है “ — हल
  • जालोटा ने सामूहिक बुद्धि परीक्षण दिया |
  • थर्स्टन ने सांष्यिकीय विधि का प्रयोग किया |
  • 3 वर्ष तक के बालकों को शिक्षा आयु के आधार पर दी जानी चाहिए |
  • यूनेस्कों द्वारा हीन बुद्धि बालको की भुद्धि लब्धि 0 – 19 बताई गयी है |
  • मानसिकता मंदता से संबंधित व्यक्तियों के लिए – घड़ी परीक्षण |
  • बुद्धिमापन के क्षेत्र में अशाब्दिक  तथा निष्पादन बुद्धि परीक्षणों का सर्वप्रथम निर्माण  पियाजे ने किया  |
  • चित्रपुर्ती परीक्षण में कार्डों की संख्या -15
  • भारत में बुद्धि परिक्षण का आरम्भ 1992 से |
  • “बुद्धि पहचानने तथा सुनने की शक्ति है “  — बिने
  • इन्द्रिज्ञान द्वारा बुद्धि की व्याख्या सर्वप्रथम विलियम वुंट ने की  |

 

मनोविज्ञान के सभी टॉपिक हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करे – Click Here For Read psychology All Topic in Hindi

 

hindi varn vichar हिंदी वर्ण विचार

राजस्थान का परिचय About Rajasthan

Leave a Reply