शिक्षा मनोविज्ञान Education psychology


शिक्षा मनोविज्ञान Education psychology

प्रिय पाठको अगर आपको हमरा प्रयास अच्छा लगा या आप कोई सुझाव देना चाहते है तो यहाँ क्लिक करके कमेंट अवस्य करे –  click Here

मनोविज्ञान के सभी टॉपिक हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करे – Click Here For Read psychology All Topic in Hindi

hindi varn vichar हिंदी वर्ण विचार

राजस्थान का परिचय About Rajasthan

शिक्षा

 

उत्पतिसंस्कृत की शिक्ष धातु — अर्थ सीखना |

Education लैटिन भाषा के educate नेतृत्व देना educate बाहर लाना |

Education – शिक्षण की कला {E(अंदर से ) +Duco आगे बढ़ना }

  • बालक का सर्वंगीण विकास करने का साधन शिक्षा को महात्मा गाँधी ने माना हैं |
  • बालक के व्यक्तिगत का समग्र विकास करती है |
  • “पौधों का विकास कृषि द्वारा एवं मनुष्यों का विकास शिक्षा द्वारा होता है “ लॉक
  • “शिक्षा से एरा तात्पर्य बालक एवं मनुष्य के शरीर, मस्तिष्क एवं आत्मा के सर्वोतम अंश की अभिवयक्ति है “ महात्मा गाँधी
  • “शिक्षा व्यक्ति की उन सभी योग्यताओं का विकास है जिनके द्वारा वह अपने वातावरण पर नियन्त्रण रखने तथा अपनी संभावनाओ को पूर्ण करने की क्षमता का विकास करते है “ जॉन डीवी
  • “आधुनिक शिक्षा का सम्बन्ध व्यक्ति और समाज दोनों के कल्याण से है “  — फ्रेडसन
  • अपने व्यापक अर्थ में शिक्षा में वो सब प्रभाव सम्मिलित रहते है जो व्यक्ति प्र उसके जैम से लेकर मृत्यु तक पड़ते है “      — उमविल
  • शिक्षा व्यक्तियों की व्यक्तियों के द्वारा और व्यक्तियों के लिए की जाने वाली प्रक्रिया है |  — यूलीच
  • “शिक्षा एक प्रक्रिया है जिसके द्वारा बालक अपनी जन्मजात शक्तियों का विकास करता हैं “ फ्रोबेल
  • “मनुष्य की अन्तर्निहित पूर्णता कोण अभिव्यक्त करना ही शिक्षा है “ — स्वामी विवेकानंद 
  • मानव की  आन्तरिक शक्तियों का स्वभाविक एवं सामंजस्य पूर्ण प्रगतिशील विकास ही शिक्षा है “     —– पेस्टालोजी

 

 

  शिक्षा का अर्थ   —

 

       संकुचित सन्दर्भ                                                                                               व्यापक सन्दर्भ

(प्राचीन दृष्टिकोण )                                                                                            (नवीन दृष्टिकोण )

  • 19 वीं सदी के उत्तरार्द्ध (1879) तक * 1879 से अब तक (20 वीं सदी )
  • औपचारिक शिक्षा (किताबी ज्ञान ) * अनोपचारिक शिक्षा
  • शिक्षा स्कूल तक सिमित * शिक्षा जीवन पर्यंत
  • ज्ञानात्मक पक्ष पर बल * सर्वागीण विकास पर बल
  • सैंद्धांतिक पक्ष पर बल           * व्यवहारिक पक्ष पर बल

 

 

 

मनोविज्ञान

उत्पत्ति — ( गैरिट के अनुसार ) साइकोलोजी —  Psychology (साइकोलोजी)

यूनानी (ग्रीक ) Psychology — Psyche (आत्मा )

Logas(विज्ञान / अध्ययन )

 

  • मनोविज्ञान प्रारम्भ में दर्शनशास्त्र का एक अंग था |
  • दर्शनशास्त्र के शिकंजे से इसे विलियम जेम्स ने मुक्त कराया (मनोविज्ञान का जनक)
  • ग्रीक दार्शनिकों द्वारा आत्मा के स्वरूप एवं व्यवहार को परिभाषित करने के लिए मानसिक दर्शन का उल्लेख किया |
  • मनोविज्ञान के लिए Psychology शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग ग्रीक मनोविज्ञानी रूडोल्फ गोयकल (1590 में ) ने किया |

 

  • मनोविज्ञान का क्रमिक विकास —-

a . आत्मा का विज्ञान  –

  • 16 वीं शताब्दी तक
  • अरस्तू प्लेटो देकार्ते , रूडोल्फ
  • आत्मा की प्रकृति की अस्पष्टता के कारण अस्वीकृत

 

b.मस्तिष्क का विज्ञान

  • 17 वीं शताब्दी में पोम्पोनोजी (इटली ), लॉक , बर्कली , थॉमस रीड
  • मस्तिष्क / मन की प्रकृति या स्वरूप का निर्धारण नही – अस्वीकृत

 

c.चेतना का विज्ञान

  • 19 वीं शताब्दी विलियम जेम्स ,विलियम वुंट , जेम्स सल्ली , वाईव्स, टीचनर

 

d.व्यवहार का विज्ञान

  • 20 वीं शताब्दी वाटसन, वुडवर्थ , स्किनर , विलियम मैक्डूगल , ई. जी.बोरिंग , जेम्स ड्रेवर

 

 

  • वाटसन ने अंतर्दर्शन का बहिष्कार किया | बर्हीदर्शन का प्रतिपादन किया |
  • सबसे पहले मनोविज्ञान ने अपनी आत्मा का त्याग किया , फिर उसने अपने मन या मस्तिष्क का त्याग किया उसके बाद उसने चेतना का त्याग किया और अब वह व्यवहार की विधि को स्वीकार करता है वुडवर्थ
  • मनोविज्ञान व्यवहार व अनुभव का विज्ञान है – स्किनर
  • आधुनिक मनोविज्ञान का सम्बन्ध व्यवहार की वैज्ञानिक खोज से है — मन
  • मनोविज्ञान मानव व्यवहार और मानव संबंधो का अध्ययन है – क्रो & क्रो
  • मनोविज्ञान का सम्बन्ध सिखने के मानवीय तत्व से है  – हैरिस w चेस्टर
  • मनोविज्ञान जीवित वस्तुओ के व्यवहार का विधायक विज्ञान है – मैक्डूगल
  • मनोविज्ञान वातावरण के सम्पर्क में होने वाले मानव व्यवहारो का अध्ययन  है |वुडवार्थ
  • मनोविज्ञान मानव प्रकृति का अध्ययन है | —  बोरिंग
  • मनोविज्ञान व्यवहार का शुद्ध विज्ञान है | वाटसन
  • मनोविज्ञान वः विज्ञानं है जो प्राणी तथा वातावरण के मध्य परस्पर होने वाली प्रतिक्रियाओं का अध्ययन करता है | मरफी
  • मनोविज्ञान एक शुद्ध विज्ञान है जो मनुष्यों और पशुओ के व्यवहार का अध्यन करता है जेम्स ड्रेवर
  • मनोविज्ञान मानसिक जीवन की घटनाओ या संवृत्तियों तथा उनकी द्शोओं का विज्ञानं है विलियम जेम्स
  • मनोविज्ञान एक विधायक विज्ञान है | ( विधायक – है का अध्यन , नियामक – होना चाहिए का अध्यन)
  • यह भौतिक एवं सामाजिक दोनों प्रकार के वातावरण का अध्ययन करता है |
  • यह न केवल व्यक्ति बल्कि पशु – व्यवहार का अध्ययन करता है |
  • यह व्यक्ति की ज्ञानेन्द्रियों को प्रभावित करने वाले वातावरण का अध्ययन करता है |
  • यह व्यक्ति को मन शारीरिक प्राणी मानता हैं |
  • यह सब प्रकार की ज्ञानात्मक क्रियाओं (स्मरण ,कल्पना ,संवेदना आदि )

            संवेगात्मक क्रियाओ (रोना ,हसना , क्रुद्ध होना आदि ) और क्रियात्मक क्रियाओ जैसे — बोलना ,चलना , फिरना आदि का अध्ययन करता है |

 

शिक्षा मनोविज्ञान

  • शाब्दिक अर्थ – शिक्षा सम्बन्धी मनोविज्ञान |
  • शिक्षा मनोविज्ञान का केंद्र मानव व्यवहार है |
  • यह खोज एवं निरिक्षण से प्राप्त तथ्यों का संग्रह करता है |
  • यह संगृहित ज्ञान को सिध्दांत रूप देता है |
  • शिक्षा की समस्याओ के समाधान के लिए पध्दतियों का प्रतिपादन करता है |
  • शिक्षा मनोविज्ञान तथा कला दोनों हैं |
  • मनोविज्ञान की शाखा के रूप में शिक्षा मनोविज्ञान की उत्पति सन 1900 में मानी जाती है |
  • 1920 में शिक्षा मनोविज्ञान को स्पष्ट और निश्चित स्वरूप प्राप्त हुआ |
  • शिक्षा मनोविज्ञान ,मनोविज्ञान के सिध्दांतों एवं अनुसन्धान का शिक्षा में प्रयोग है कॉलसनिक
  • शिक्षा मनोविज्ञान व्यक्ति के जन्म से वृध्दावस्था तक सीखने के अनुभवों का वर्णन तथा व्याख्या करता है  — क्रो & क्रो |
  • शिक्षा मनोविज्ञान जन्म से लेकर परिपक्वता तक विभिन्न परिस्थितियों में गुजरते हुए व्यक्तियों में होने वाले परिवर्तनों की व्याख्या तथा विवेचना करता है | —  सी.एच.जेड(अधिगम का सम्न्यीकरण सिध्दांत )
  • शिक्षा मनोविज्ञान शैक्षणिक विकास का क्रमिक अध्ययन है   – जे..स्टीफन
  • शिक्षा मनोविज्ञान उन अनुसंधानों का शैक्षणिक परिस्थितियों में प्रयोग है जो शैक्षणिक परिस्थितियों में मानव के अनुभव तथा व्यवहार से संबंधित है   —  स्किनर
  • शिक्षा मनोविज्ञान ,वैधानिक विधि से प्राप्त किये जाने वाले मानव प्रतिक्रियाओं के उन सिध्दांतों के प्रयोग को प्रस्तुत करता है ,जो शिक्षण और अधिगम को प्रभावित करते हैं  — एलिश क्रो
  • शिक्षा मनोविज्ञान कास मुख्य सम्बन्ध सिखने से है | यह मनोविज्ञान का वह अंग है ,जो शिक्षा के मनोवैज्ञानिक पहलुओ की वैज्ञानिक खोज से विशेष रूप से सम्बन्धित है   — सोरे एवं टेलफ़ोर्ड
  • मनोविज्ञान के सभी टॉपिक हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करे – Click Here For Read psychology All Topic in Hindi
  • hindi varn vichar हिंदी वर्ण विचार

    राजस्थान का परिचय About Rajasthan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *