शिक्षा मनोविज्ञान के सम्प्रदाय Community of Education Psychology


शिक्षा मनोविज्ञान के सम्प्रदाय Community of Education Psychology

प्रिय पाठको अगर आपको हमरा प्रयास अच्छा लगा या आप कोई सुझाव देना चाहते है तो यहाँ क्लिक करके कमेंट अवस्य करे –  click Here

मनोविज्ञान के सभी टॉपिक हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करे – Click Here For Read psychology All Topic in Hindi

Download psychology important Topic In Hindi Pdf Click Here
Read psychology important books and writers
Online Psychology Test in hindi

hindi varn vichar हिंदी वर्ण विचार

राजस्थान का परिचय About Rajasthan

व्यवहारवाद

       प्रतिपादकवाटसन

  • मूर्त तथ्यों की व्याख्या
  • मनोविज्ञान का उद्देश्य व्यवहार की भविष्यवाणी करना |
  • परिवेश में आवश्यक परिवर्तन करके किसी को कुछ भी बनाया जा सकता है |

गेस्टाल्टवाद 

  • मैक्स वर्दाइमर ,कोफ्फा, कोहलर , कर्ट लेनिन
  • सम्प्रदाय का जन्म जर्मनी 1912
  • शाब्दिक अर्थ रूप , आकृति ,संरचना |जॉन
  • मनोविज्ञान को व्यवहार तथा अनुभव के प्रकार का अध्ययन करना चाहिए |
  • सभी क्षेत्रों प्रयोगात्मक विधि द्वारा अध्ययन |

साह्चर्यवाद  –

  • जॉन लॉक
  • स्पंदन तथा स्मृति में ज्ञात करने के साहचर्य की स्वीकार किया |

प्रेरक सम्प्रदाय

  • मैक्डूगल
  • इस सम्प्रदाय को कारणीयता भी कहते हैं |
  • मशीनी या व्यवहार – विचार के बिलकुल विरुद्ध है |
  • यह प्रेरणा , कार्य करने या कार्य करने की इच्छा पर बल देता है |

मनोविश्लेषणात्मक सम्प्रदाय

  • सिगमंड फ्रायड
  • अचेतन मन ,इद ,अहं ,परम अहं , अवरोध दमन , शैशव , योन कामना तथा पितृ विरोधी ग्रंथी के बारे में नये ज्ञान से परिचित कराया |

प्रकार्यवाद

  • विलियम जेम्स ,जॉन ड्यूवि एवं एंजिल
  • मानसिक क्रियाए गतिशील और सप्रयोजन होती है |
  • संपूर्ण व्यक्ति के अध्ययन पर जोर |
  • मनोविज्ञान व जिव -विज्ञानं में घनिष्ठ्व सम्बन्ध स्थापित किया |
  • शिकगो व कोलम्बिया विश्वविध्यालय के मनोवैज्ञानिक |

सरंचनावाद

  • वुंट एवं टीचनर
  • मनुष्य की चेतना में मानसिक तत्वों का महत्वपूर्ण स्थान |
  • मनोवैज्ञानिक अध्ययन में मनोवैज्ञानिक पध्दति पर बल दिया | मन और चेतना का स्वरूप जानने का प्रयास

मनोविज्ञान के सभी टॉपिक हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करे – Click Here For Read psychology All Topic in Hindi

 

hindi varn vichar हिंदी वर्ण विचार

राजस्थान का परिचय About Rajasthan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *