राजस्थान का परिचय About Rajasthan


राजस्थान का एक परिचय

राजस्थान भारत के उत्तरी गोलार्ध में बसा हुआ है

राजस्थान का कुल क्षेत्रफल 342239 वर्ग किमी है

वह भारत देश के कुल क्षेत्रफल का 10.41% है

भारत का क्षेत्रफल 2087263 किमी है

1 नवंबर 2000 को मध्य प्रदेश के टूटने से एक नया राज्य छत्तीसगढ़ पड़ा जिसके कारण राजस्थान क्षेत्रफल की दृष्टि से देश का सबसे बड़ा राज्य बन गया |

राजस्थान की राजधानी  – जयपुर

जयपुर –  जयपुर की स्थापना 18 नवंबर 1727 ईसवी को जयसिंह द्वितीय (सवाई जयसिंह) ने की थी

जयसिंह द्वितीय को सवाई की उपाधि औरंगजेब ने दी थी

जयसिंह प्रथम को मिर्जा कहा जाता था जयसिंह प्रथम को मिर्जा की उपाधि शाहजहां ने दी थी कवि बिहारी जयसिंह प्रथम के दरबारी कवि थे

राजस्थान का एकीकरण के समय चतुर्थ चरण वृहद   राजस्थान 30 मार्च 1949 ईस्वी को जयपुर नगर को राजस्थान की राजधानी घोषित किया गया

जयपुर शहर का नक्शा श्री विद्याधर भट्टाचार्य ने बनाया था

 

शहर को आयताकार व  नौ खंडों में विभाजित किया गया

आधुनिक जयपुर का निर्माता  – मिर्ज़ा इस्माइल

जयपुर को  ढूंढाड़,जयगढ़,रामगढ़ नामक प्राचीन नामों से जाना जाता था

जयपुर की नीवं  पंडित जगन्नाथ के वास्तु शास्त्र के आधार पर रखी गई|

जयपुर को राजस्थान की राजधानी 30 मार्च 1949 को बनाया गया

सी. वी. रमन ने जयपुर को – आइलैंड ऑफ ग्लोरी कहा

राजस्थान स्थापना दिवस –   30 मार्च

         राजस्थान का नामकरण

राजस्थान को सर्वप्रथम राजपूताना नाम जॉर्ज थॉमस ने 1800 इसवी में दिया

1805 ईसवी में विलियम फ्रेंकलिन ने अपने ग्रंथ मिलिट्री मेमोरियस (Military Memories)ऑफ मिस्टर जॉर्ज थॉमस में सर्वप्रथम इस बात का उल्लेख किया कि जो थॉमस ही संभव है प्रथम व्यक्ति था जिसने इस भूभाग को राजपूताना कहा था

राजस्थान अंग्रेजों के शासन काल में इस क्षेत्र को  को राजपूताना के नाम से जाना जाता था

1829 ईस्वी में कर्नल जेम्स टॉड ने अपने ग्रंथ एनल्स एंड एंटीक्विटीज ऑफ राजस्थान अथवा सेंट्रल एंड वेस्टर्न राजपूत स्टेट्स आॅफ इंडिया में सर्वप्रथम राजस्थान को रजवाड़ा या राजस्थान या राजस्थान का नाम दिया था

 

कर्नल जेम्स टॉड की  एनल्स एंड एंटीक्विटीज ऑफ राजस्थान Annals and Antiquities of Rajasthan दूसरा नाम  – The Central and Western Rajpoot States of India

कर्नल जेम्स टॉड – पश्चिमी राजपूत स्टेट के  पोलिटिकल एजेंट थे

कर्नल जेम्स टॉड की एक पुस्तक मेरी पश्चिमी यात्रा ने – राजस्थान को यूरोप में ख्याति दिलाइ

 

कर्नल जेम्स टॉड ने अपनी पुस्तक राजपूत स्टेट्स ऑफ इंडिया का प्रकाशन –  लंदन में किया था

महाराज भीम सिंह ने कर्नल की सेवाओं से प्रभावित हो कर गाँव का नाम टॉडगढ़ रख दिया, जो कालांतर में टाडगढ़ कहलाने लगा। टाडगढ़ आज अजमेर जिले की एक तहसील का मुख्यालय है

उदयपुर के महाराजा भीम सिंह की सहमति से स्वयं के लिए बोरसवाडा में एक छोटा सा किला बनवाया था

 

The Central and Western Rajpoot States of India पुस्तक का  प्रकाशक – जेम्स कुक था

राजस्थान में कर्नल जेम्स टॉड  – उदयपुर व जोधपुर का पोलिटिकल एजेंट था

कर्नल जेम्स टॉड –    UK का मूल निवासी था

राजस्थान के इतिहास का पितामह एवं घोड़े वाले बाबा के नाम से जाना जाता है – कर्नल जेम्स टॉड को

राजस्थान का चित्तौड़गढ़ के खंड शिलालेखों में – राजस्थानिय में कहा गया

हर्ष कालीन प्रांतपति जो इस बार की इकाई का शासन करते थे जो राजस्थानी हैं कहलाते थे इसका उल्लेख हमें –  बसंतगढ़ शिलालेख से मिलता है

वीरभान ने अपने ग्रंथ राज रूपक में राजस्थान शब्द का प्रयोग किया है

राजस्थान 1 नवंबर 1956 को अपने वर्तमान स्वरूप में आया

राजस्थान सामान्य ज्ञान महत्वपूर्ण प्रश्न पार्ट 1

राजस्थान सामान्य ज्ञान महत्वपूर्ण प्रश्न पार्ट 2

राजस्थान सामान्य ज्ञान महत्वपूर्ण प्रश्न पार्ट 3

राजस्थान सामान्य ज्ञान महत्वपूर्ण प्रश्न पार्ट 4

राजस्थान सामान्य ज्ञान महत्वपूर्ण प्रश्न पार्ट 5

राजस्थान के प्रतीक

राजस्थान के  जिलो के उपनाम

राजस्थान प्रसिध युद्ध ट्रिक

राजस्थान के लोक नृत्य

मेवाड़ राज्य का इतिहास

Leave a Reply