बुद्धि के सिद्धांत Theories of intelligence psychology Notes


बुद्धि के सिद्धांत Theories of intelligence psychology Notes

प्रिय पाठको अगर आपको हमरा प्रयास अच्छा लगा या आप कोई सुझाव देना चाहते है तो यहाँ क्लिक करके कमेंट अवस्य करे –  click Here

मनोविज्ञान के सभी टॉपिक हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करे – Click Here For Read psychology All Topic in Hindi

बुद्धि के सिद्धांत

 

 

(1)एक कारक (तत्व) का सिद्धात –  बिने , टर्मन ,स्टर्न बुद्धि एक अविभाज्य इकाई |

विभिन्न मानसिक योग्यताऐ एक इकाई के रूप में कार्य करती है |                                 (दोषपूर्ण )

(2) द्वी कारक (तत्व ) का सिद्धांत –  स्पियर मैन सामान्य व विशेष बुद्धि

सामान्य बुद्धि – जन्मजात ,सदैव एक सी ,सब मानसिक कार्यो में प्रयोग ,प्रत्येक व्यक्ति में भिन्न , जितनी अधिक

उतना सफल |

दर्शन,भाषा, विज्ञानं में सामान्य सफलता |

विशेष बुद्धि  – अर्जित एक दुसरे से स्वत्रन्त्र ,अनेक ,कार्य कुशलता से सम्बन्धित ,विभिन्न व्यक्तियों भाषा ,विज्ञान व

दर्शन में विशेष

(3) त्रिकारक (तत्व) सिद्धांतस्पियरमैन

                                            सामान्य +विशेष+सामूहिक तत्व

                 सामूहिक तत्व – सामान्य बुद्धि से श्रेष्ट , विशेष बुद्धि से निम्न

(4) समूह कारक (खंड) – थर्सटन व कैली | प्राथमिक मानसिक योग्यतो का सिद्धांत |

कैली  – बुद्धि निम्न 9 योग्यताओ का समूह (रूचि ,गामक योग्यता ,सामाजिक योग्यता ,शाब्दिक योग्यता ,सांख्यिक योग्यता , शारीरिक योग्यता , संगीतात्मक योग्यता ,यांत्रिक योग्यता , स्थान संबधी विचार योग्यता |

(5) बहुकारक सिद्धांतथार्नडाइक (बालू सिद्धांत )(मात्रा सिधांत ) –  बुद्धि ,अनिश्चित, स्वतंत्रता  तथा प्राथमिक तत्वों का  माध्य | ”मस्तिष्क का गुण स्नायु तंतुओं  की मात्रा पर निर्भर करता है |”

“बुद्धि उतनी ही अधिक जितने अच्छे मस्तिष्क व  स्नायु मंडल के मध्य संबंध |

– बुद्धि अनेक तत्वों का मिश्रण, सभी तत्व एक दूसरे से स्वतंत्र |

– G फैक्टर  या सामान्य बुद्धि जैसी कोई चीज नहीं होती |

(6) क्रमिक महत्व का सिद्धांत बर्ट,वर्नन (पदानुक्रमिक  सिद्धांत )मानसिक योग्यताओं के  4  स्तर –

(a) सामान्य मानसिक योग्यता

(b) शाब्दिक, सांध्यिक ,शैक्षिक

(7)त्रिआयामी सिद्धांत गिलफोर्ड (बुद्धि रचना सिद्धांत)

  • बुद्धि एक तार्किक रचना

प्रमुख रूप से तीन तत्व –  संक्रिया, विषय वस्तु, उत्पादन |

गिलफोर्ड के डिब्बे के आकार के मॉडल को( 1967 ) बुद्धि संरचना मॉडल के नाम से जाना जाता है |

(  मूल रूप से विषय वस्तु में)

विषय वस्तु के पांच तत्व –  दृश्य आकृति, संकेतात्मक, भाषागत व्यवहारगत |

संक्रियाएं  के पांच तत्व –  संज्ञान, स्मृति, बहुमुखी  उत्पादन, एकमुखी उत्पादन, मूल्यांकन |

उत्पादन के 6 तत्व –  इकाइयां, वर्ग, संबंध, प्रणाली, रुपांतरण, अनुप्रयोग

कुल   –   5x5x6  = 150  तत्व

1998  के मॉडल संक्रिया 6 x विषय वस्तु 5x उत्पाद 6 =  180 वर्ग

  • पहले विषय वस्तु के बारे में पढ़ते हैं या सूचना प्राप्त करते हैं |
  • सूचना का चिंतन मनन करते हैं |
  • उत्पाद के माध्यम से निष्कर्ष निकालते हैं |

(8)  प्रतिदर्श सिद्धांत  थॉमसन (  वर्ग घटक या सत्तात्मक सिद्धांत)

एक ही समूह की योग्यताओं में परस्पर समानता पाई जाती है |

जैसे साहित्यक –  कहानी- कविता- नाटक- उपन्यास |

(9) बुद्धि `  `` सिद्धांत  –  हैब

  • बुद्धि वंशानुगत एवं पर्यावरण जन्य कारकों का प्रतिफल है |

वंशानुगत बुद्धि क –  व्यक्ति के जन्मजात गुण

वातावरणीय घटक बुद्धि ख –  अधिगम अनुभव |

 

(10) विकासात्मक सिद्धांत  जीन पियाजे |  बुद्धि विकास की प्रक्रिया  4 अवस्थाओं में  विभाजित |

(अ)  संवेगी पेशीय अवस्था –  0 – 2 वर्ष

(ब) पूर्व  वैचारिक क्रिया  अवस्था —  2 – 6  वर्ष

(स) वैचारिक क्रिया अवस्था –   7 – 12  वर्ष

(द) औपचारिक संक्रिया अवस्था  –   12 वर्ष के बाद

(11) ब्लूम का बुद्धि सिद्धांत ( आश्चर्य बुद्धि सिद्धांत) – बुद्धि जैसी कोई चीज नहीं होती | समय अधिक महत्व पूर्ण कारक है |

प्रिय पाठको अगर आपको हमरा प्रयास अच्छा लगा या आप कोई सुझाव देना चाहते है तो यहाँ क्लिक करके कमेंट अवस्य करे –  click Here

मनोविज्ञान के सभी टॉपिक हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करे – Click Here For Read psychology All Topic in Hindi

hindi varn vichar हिंदी वर्ण विचार

राजस्थान का परिचय About Rajasthan

Leave a Reply